(India – China) सर्दी के कारण LAC से चीन ने हटाए 10 हजार सैनिक पीछे

0
231

दोस्तों भारत और चीन के बीच में पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में पिछले 1 साल से मनमुटाव चल रहा है और सीमा पर काफी सारी टेंशन भी है और यह टेंशन कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। आप लोगों को बता दें कि पिछले साल चीन से कोरोना आने के बाद चाइना ने बॉर्डर पर काफी तनाव पैदा कर दिए था और वह अक्सर भारत के सिपाहियों के साथ मन मुटाव करता था। 

इसके आलावा देश के अन्य बॉर्डरों पर जहां पर चीन के सिपाही मौजूद थे वहां पर भी दोनों देश की सीमाओं पर मन मुटाव होने लग गया और अब पहाड़ी इलाकों में और बर्फ़बारी क्षेत्रों में भी सैनिकों की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही है। दोस्तों अब सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है कि चीन की सरकार ने पूर्वी लद्दाख से अपने 10 हजार सिपाहियों को पीछे हटा लिया है। 

और उन्होंने ऐसा इसलिए किया है क्योंकि पहाड़ी इलाकों पर काफी ज्यादा बर्फ़बारी हो रही थी और वहां का पारा शून्य से भी नीचे जा चुका था जो कि सबसे ख़राब है। आप लोगों को बता दें कि पिछली साल जब पूरी दुनिया कोरोना से लड़ रही टी तो उसी बीचे मार्च और अप्रैल के महीने में चीन ने बॉर्डर पर अपने 50 हजार से ज्यादा सैनिक तैनात कर दिए थे और इस वजह से सैनिकों के बीच काफी ज्यादा तनाव बढ़ गया था। 

जब 15 जून 2020 को गलवान घाटी में भारतीय सैनिक और चीन के सैनिकों के बीच लड़ाई हुई थी तो इसमें कई लोगों की जान भी चली गई थी। जिनमें से एक कर्नल संतोष बाबू भी थे और इनको मिलकर कुल 20 सैनिकों की जान उस रात गई थी। इसके बाद भारत और चीन में युद्ध जैसा माहौल हो गया था। अब माना जा रहा है की गड्तंत्र दिवस पर इन शहीदों को पुरूस्कार दिया जायेगा। 

Leave a Reply